आइये आपका स्वागत है

Monday, 25 March 2013

दिल और दर्द का रिश्ता है गहरा ....



जब दिल में दर्द ही दर्द ठहरा हो ,

दरिया आँखों से बह रहा हो
होंठों पर चुप्पी का पहरा हो
तब न तुम आवाज़ देना मुझे
क्यूंकि तब मैं कुछ न कह पाऊँगी
कुछ समझाओगे तो न मैं समझ पाऊँगी !


जब से तुम संग दिल जोड़ लिया ,
साथ तेरे ही जीना मरना तब से ही ये प्रण लिया !
तेरे प्यार ने ऐसा दिल में घर किया,
कुछ और न देखा न समझा जाने ये क्यों किया !


तुम्हारे अलावा कुछ और दिखा नहीं ,
दिखता भी कैसे, आँखे जो बंद की फिर खोली नहीं !
चलते गए साथ तेरे पीछे मुड़कर देखा नहीं ,
जब देखा तो फिर कोई , और अपना दिखा नहीं !


आज रंज है की तू भी अब अपना लगता नहीं ,
साथ तो तू मेरे है , पर साथ दिखता नहीं !
तुम भी वही हो , और मैं भी वही हूँ ,
फिर पहले जैसा कुछ क्यूँ लगता नहीं !


समय बदल जाता है ये तो हमें पता था ,
पर इंसान भी बदल जाते हैं ये भी अब जान लिया !
मैं जो एक बार खो गयी फिर न मुझे ढूंड पाओगे ,
हर पल रोओगे , याद करोगे और फिर पछताओगे !
अभी समय है एक आवाज़ लगा देना ,
दौड़ कर जो वापस ना आई तो फिर भुला देना !

9 comments:

  1. प्रेम की अभिव्यक्ति ...

    ReplyDelete
  2. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल 26/3/13 को चर्चा मंच पर राजेश कुमारी द्वारा की जायेगी आपका स्वागत है ,होली की हार्दिक बधाई स्वीकार करें|

    ReplyDelete
  3. सुंदर भावपूर्ण सहजता से कही गयी गहरी बात
    बहुत बहुत बधाई
    होली की शुभकामनायें

    aagrah hai mere blog main bhi padharen
    aabhar


    ReplyDelete

  4. बहुत बढ़िया प्रस्तुति ......
    आपको होली की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  5. मन के उद्गार धीरे धीरे कविता का रूप ले रहे हैं ...

    ReplyDelete
  6. बहुत कविता...
    होली की बहुत-बहुत शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  7. बस आप के लिए मेरा ये शेर-

    उस डगर पर चलो तो हमें भी पूछ लेना
    हम रस्ते के पत्थर है कभी चोट नहीं खाते.



    मेरे ब्लॉग पर भी आइये ..अच्छा लगे तो ज्वाइन भी कीजिये
    पधारिये :  किसान और सियासत

    ReplyDelete
  8. गहन अनुभूति
    जीवंत रचना
    सुंदर अहसास
    बहुत बहुत बधाई

    आग्रह है मेरे ब्लॉग में भी सम्मलित हों
    मुझे ख़ुशी होगी

    ReplyDelete
  9. बहुत खूबसूरती के साथ शब्दों को पिरोया है इन पंक्तिया में आपने

    ReplyDelete

पधारने के लिए धन्यवाद