आइये आपका स्वागत है

Monday, 19 August 2013

भईया मेरे राखी के बंधन को निभाना .......


भईया मेरे राखी के बन्धन को निभाना
अपनी बहना को कभी भूल न जाना 
तू दूर रहे या पास, दिल से दूर न जाना
जब भी पुकारुँ दिल से, दौड़े चले आना ......


साथ में अपने वो बचपन की यादें ले आना

वो लड़ना-झगड़ना और वो रुठना-मनाना 
खाना खाते हुये तुम्हारा दही का गिराना
कभी मेरी ही प्लेट उठाकर भाग जाना
गुस्से में मेरा फिर तुमसे नाराज हो जाना 
तुम्हारा फिर भी मुझको बहुत चिढ़ाना 
अगले दिन फिर से साथ में ही खाना खाना...



मम्मी का वो बार-बार हम दोनों को डाँटना

अगले ही पल हमारा उससे बेखबर हो जाना
बचपन की यादों का वो क्या खूबसूरत जमाना
भईया के लिये कभी-कभी खुद ही पिटाई खाना
अपने हिस्से की खुशियाँ भी उस पर लुटाना
अगले ही पल उनका अहसान भी जताना .....


भईया मेरे राखी के बन्धन को निभाना

यूहीं मुझ पर सदा अपना प्यार लुटाना
नाराजगी कभी हो भी जाये तो दिल से लगाना
मनाने से मान जाना या फिर हमें मना लेना
प्यार और विस्वास को अपने यूहीं कायम रखना.......


राखी पर कभी बुला लेना तो कभी खुद आ जाना

कभी न मुझे इस दिन तुम इन्तजार करवाना 
भईया मेरे राखी के बन्धन को ऐसे ही सदा निभाना
आशिर्वाद है जीवन में यूहीं तरक्की करते जाना
अपना हर कर्तव्य सदा यूहीं निभाते जाना
सदकर्मों से अपने खानदान का नाम चमकाना........


राखी पर्व की हार्दिक शुभकामनायें !!!!!



प्रवीन मलिक ........



राखी पर्व की हार्दिक शुभकामनायें !!!!!!

10 comments:

  1. बहुत सुंदर भावपूर्ण !बहुत सुंदर भावपूर्ण !

    ReplyDelete
  2. आपकी यह रचना कल मंगलवार (20-08-2013) को ब्लॉग प्रसारण पर लिंक की गई है कृपया पधारें.

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर रचना
    बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  4. भाई बहन के पवित्र प्यार के प्रतिक रक्षा बंधन के शुभ अवशर पर बहुत ही सुन्दर प्रस्तुती, आभार।

    ReplyDelete
  5. बहुत ही सजीव रचना .. भाई बहन के बीच के खट्टे मीठे प्यारे रिश्ते को दर्शाती हुई ..

    ReplyDelete
  6. भाई बहन के सुन्दर रिश्ते की मिठास लिए सुन्दर रचना
    रक्षाबंधन की बधाई व शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  7. बहुत ही बढिया कविता ! शब्दों और भावों का लाजवाब संयोजन !!
    रक्षाबंधन की ढेर सारी शुभकामनाएं !!!!

    ReplyDelete
  8. बहुत ही बढिया कविता ! शब्दों और भावों का लाजवाब संयोजन !!
    रक्षाबंधन की ढेर सारी शुभकामनाएं !!!!

    ReplyDelete
  9. सुन्दर ,सरल और प्रभाबशाली रचना। बधाई। कभी यहाँ भी पधारें।
    सादर मदन
    http://saxenamadanmohan1969.blogspot.in/
    http://saxenamadanmohan.blogspot.in/

    ReplyDelete
  10. हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच} के शुभारंभ पर आप को आमंत्रित किया जाता है। कृपया पधारें आपके विचार मेरे लिए "अमोल" होंगें | आपके नकारत्मक व सकारत्मक विचारों का स्वागत किया जायेगा |

    ReplyDelete

पधारने के लिए धन्यवाद