आइये आपका स्वागत है

Saturday, 7 September 2013

हाइकु प्रयास

अंधेरी रात
सुनसान गलियाँ
कुकुर ध्वनी !

गरीब बच्चा
ज्वर में तड़पता
लाचार है माँ !

चुनावी वादे
तोहफों की बहार
गधा भी बाप !

खिलती कली
अनायास कुचली
घिनौना कर्म !

झूठा संसार
मोहमाया का जाल
अटल सत्य  !

पहली बार लिखा है पता नहीं कोई सही भी है या नहीं 
कृपया बताइये क्या संशोधन की आवश्यकता है ताकि कुछ सीखने में मदद मिले ... धन्यवाद !

प्रवीन मलिक .....


7 comments:

  1. बहुत ही सुन्दर प्रयास है, दुसरे हाइकू का मध्य भाग में ७ से ज्यादा वर्ण हैं (बुखार में तडपता) बुखार को पीड़ा या कोई अन्य उपयुक्त शब्द लिख सकती हैं, धन्यबाद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी बुखार को ज्वर कर दिया .... बाकी ठीक हैं ???
      सादर !

      Delete
  2. नमस्कार आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (08-09-2013) के चर्चा मंच -1362 पर लिंक की गई है कृपया पधारें. सूचनार्थ

    ReplyDelete
  3. ……सुन्दर अभिब्यक्ति

    ReplyDelete
  4. सुन्दर प्रयास
    :-)

    ReplyDelete
  5. सटीक हाइकु.....मुबारक हो !

    ReplyDelete

पधारने के लिए धन्यवाद